मुंबई : कई सफल वेब श्रृंखलाओं में काम करने के बाद अभिनेत्री अनुप्रिया गोयनका सेक्रेड गेम्स के दूसरे सीज़न में वे सैफ अली खान के साथ नजर आने वाली हैं। पद्मावत में अपने अभिनय का जौहर दिखा चुकी अभिनेत्री इस वेब सीरीज में अपनी भूमिका के बारे में बात करते हुए कहती है कि मैं सीरीज़ में सैफ की पूर्व पत्नी मेघा का किरदार निभा रही हूं। पहले सीज़न में सिर्फ एक झलक दिखाई गई थी। 
 
Saif and Anu
निर्माताओं ने सरताज की निजी जिंदगी पूरी तरह से उजागर नहीं की थी। जैसे-जैसे श्रृंखला आगे बढ़ती है, मेघा की भूमिका और भी महत्वपूर्ण हो जाती है। अनुप्रिया ने सैफ के साथ सेट पर खूब आनंद लिया। वह कहती हैं कि सैफ के साथ काम करना बिल्कुल अद्भुत रहा है। वह सबसे सहज सह-अभिनेताओं और सेलिब्रिटी में से एक हैं। वे बहुत ही शालीन है और हमेशा नम्र रहते है वह अपने सह-कलाकारों को बहुत सहज बनाते हैं। वह एक शानदार इंसान  हैं। 

इंडियन ट्रेडिशनल सांगरी कांटेस्ट में 161 महिलाओं और गर्ल्स ने लिया भाग
जयपुर। भारतीय कला और संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए सांगरी इंटरनेट प्राइवेट लिमिटेड (सांगरी ग्रुप) द्वारा इंडियन ट्रेडिशनल थीम पर आधारित नेशनल लेवल ऑनलाइन फोटो कांटेस्ट का आयोजन किया गया, जिसका परिणाम शनिवार को घोषित किया गया जिसमें हरियाणा की कुमकुम चौहान ने सांगरी मिस इंडिया 2019 व राजस्थान की सुनीता डूडी ने सांगरी मिसेस इंडिया 2019 का ख़िताब जीता हैं।

इस कांटेस्ट में विजेता का चयन सर्वाधिक फोटो रीच (पहुँच ) पर किया गया जिसमें सुनीता डूडी ने सात लाख बहतर हजार तीन सौ छियानवे और कुमकुम चौहान ने पांच लाख इकतीस हजार इकतालीस की सर्वाधिक रीच हासिल की। साथ ही सांगरी कांटेस्ट में मिस केटेगरी में किंशु शर्मा फर्स्ट रनरअप  और अनुपमा श्री सेकंड रनरअप रही।

Kinshu Sharma
Kinshu Sharma

Anupama Shree
Anupama Shree


इसी प्रकार मिसेस में नैंसी श्रीवास्तव फर्स्ट रनरअप और गिमिता सिंह सेकंड रनरअप रही।
Nancy Srivastava
Nancy Srivastava

Gimita Singh
Gimita Singh

सांगरी इंटरनेट प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर जुंजाराम थोरी ने बताया की इस ट्रेडिशनल कांटेस्ट में देशभर के 12 राज्यों से 161 महिला प्रतिभागियों ने भाग लिया था और 23 मई से 30 जून तक रजिस्ट्रेशन किये गए उसके बाद सबकी ट्रेडिशनल ड्रेस में फोटो को सांगरी कांटेस्ट पेज पर अपलोड किया गया और सभी प्रतिभागियों को रीच बढ़ाने  के लिए 39 दिन का समय दिया। साथ ही विजेताओं को हमारी आने वाली मैगज़ीन के कवर पेज पर जगह मिलेगी और सभी प्रतिभागियों को ऑनलाइन सर्टिफिकेट भी दिए जायेंगे।
सोमवार को जारी हुई राज्यवार सूची में राजस्थान से मीनू धायल, नई दिल्ली से डॉ शिंगारिका गुलेरिया, हरियाणा से अंजली जोधा, गुजरात से कीर्ति चावडा, मध्य प्रदेश से कृतिका वैकेर, कर्नाटक से निधि क्लारेंस, महाराष्ट्र से विधि जालान, उत्तर प्रदेश से आकांक्षा सक्सेना, बिहार से कुमारी अनिशा, हिमाचल प्रदेश से सोनिया, उत्तराखंड से मनप्रीत कौर और तमिलनाडु से प्रियंका श्रीराम ने फर्स्ट रैंक हासिल की। 

 सांगरी ग्रुप द्वारा आयोजित इस प्रतियोगिता को जीतने के लिए यह मेरे लिए विशेष क्षण है। मैं भारत की परंपरा और संस्कृति को प्रोत्साहित करने के लिए सांगरी ग्रुप को धन्यवाद देना चाहती हूं। मैं  सहायक परिवार और दोस्तों के लिए भाग्यशाली हूं जिन्होंने इस प्रतियोगिता में शीर्ष स्थान तक पहुंचने के लिए मेरा समर्थन किया।
सुनीता डूडी
हनुमानगढ़, राजस्थान
"जब मुझे संदेश मिला कि मैं प्रथम पुरस्कार के सलेक्ट हुई  हूँ तो मुझे कितनी खुशी हुई आपको अंदाजा नहीं होगा बस इसकी शब्दों में व्याख्या नहीं कर सकती।  यह एक सरप्राइज था मेरे लिए। इस तरह की अनूठी प्रतियोगिता के लिए सांगरी ग्रुप का धन्यवाद। "
कुमकुम चौहान
झज्जर, हरियाणा

जैकी भगनानी को लोग अब तक अभिनेता और निर्माता के रूप में जानते हैं, लेकिन अब उनका एक नया रूप सामने आ गया है, जिसका संबंध संगीत से है। जैकी खुद अपना एक म्यूज़िक लेबल लांच कर रहे हैं। मुम्बई में हुए एक इवेंट के दौरान उन्होंने अपने म्यूज़िक लेबल 'जस्ट म्यूज़िक'को लांच किया।

JAcky
जस्ट म्यूज़िक ऐसा म्यूज़िक बनाएगी जो न सिर्फ सुनने वालों को अच्छा लगे बल्कि आने वाले म्यूज़िक टैलेंट्स को एक फेयर प्लेटफॉर्म दे सके। इस म्यूज़िक लेबल के लोगो लांच पर जैकी भगनानी ने कहा,“मैं अपने ड्रीम प्रोजेक्ट 'जस्ट म्यूज़िक' को लांच करके बहुत ही उत्साहित हूं। मैंने इसमें अपना दिल और जान लगा दी है और उम्मीद है कि ये लोगों के दिलों को भी छू ले।"

तीन दशक तक 500 से अधिक फिल्मों में शानदार अभिनय के बाद , एक कुशल कलाकार और मोटिवेशनल स्पीकर के तौर पर अनुपम खेर की यात्रा किसी प्रेरणा से कम नहीं है। शिमला में एक निम्न मध्यम वर्गीय परिवार से निकलकर विश्व स्तर पर सबसे बहुमुखी और प्रशंसित अभिनेताओं में से एक बनने के बाद अनुपम खेर ने निश्चित रूप से अपनी कई उपलब्धियों और मान्यता के साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपने देश को गौरवान्वित किया है। प्रतिष्ठित अभिनेता अनुपम खेर की यात्रा वास्तव में कई लोगों के लिए एक प्रेरणा का स्तोत्र रही है जो अभिनेता बनने के सपने देखते हैं। एक तरफ जहां उनकी पहली किताब 'द बेस्ट थिंग अबाउट यू इज़ यू' उनके जीवन से प्रेरित थी और बुकस्टोर्स में बेस्ट सेलर्स की की लिस्ट में शामिल है वहीँ अब जल्द ही उनकी नयी किताब आने वाली है। उनकी दूसरी किताब 'लेसन्स लाइफ टॉट मी अननोइंगली' जल्द ही संयुक्त राज्य अमेरिका में रिलीज़ होने की तैयारी में है।
anupam kher

     किताब के बारे में बात करते हुए अनुपम खेर कहते हैं, "मैं अपने दोस्त ऋषि कपूर द्वारा अपनी ऑटोबायोग्राफी रिलीज़ करने के लिए रोमांचित हूं क्योंकि वह न सिर्फ एक बेहतरीन अभिनेता हैं, बल्कि रोग से उबरने के इस लड़ाई में साहस और आशा के प्रतीक भी हैं। न्यू एम्स्टर्डम के मेरे दोस्तों को इस कार्यक्रम में भाग लेने और शाम में एक मनोरंजक आयाम जोड़ने के लिए अत्यंत आभारी हूं।
Rishi-Kapoor-to-release-Anupam-Khers-autobiography

मुंबई: यूट्यूूब पर नानी ने धमाल मचा ररूखा है। ये नानी बच्चों को कहानियां सुनाती है। उन्हें विदेशी कल्चर से बचने की चेतावनी देती है और उन्हें संस्
कारों से जोड़ती है। कुल मिलाकर यूट्यूब के जरिए बच्चों को सबक देगी नानी। यूट्यूब पर वोका वर्ल्ड ऑफ किरन अग्रवाल के तहत 'सबक देगी नानी' शो में किरन एनिमेटेड किरदारों के जरिए दिलचस्प कहानियां प्रस्तुत करती हैं। अब इस शो का अगला पार्ट भी शुरू है। इस शो की दर्शक संख्या करोड़ों तक पहुंच चुकी है। अपने इस शो के बारे में किरन कहती हैं कि मैं संयुक्त परिवार की संस्कृति से अच्छी तरह परिचित हूं। 
 
Kiran
संयुक्त परिवार परंपरा का सबसे अधिक फायदा यह होता है कि यहां नानी-दादी द्वारा बच्चों में संस्कार पैदा किए जाते हैं। पत्रकारिता और मनोरंजन की दुनिया का हिस्सा होने के कारण मुझे बाहरी दुनिया को देखने और समझने का मौका मिला है। मैंने देखा है कि टूटते परिवारों की वजह से बच्चों को सहना पड़ता है। आज के अभिभावकों के पास इतना समय नहीं कि वे अपने बच्चों के साथ ढंग से समय बिताएं व उन्हें कहानियां सुनाएं। यहीं से मुझे कहानियों पर आधारित शो बनाने का ख्याल आया और इसे नाम दिया सबक देगी नानी। इसके जरिए बच्चों को संदेष दिया जाता है। दूसरी बात यह कि आजकल के बच्चे विदेशी कार्यक्रम खूब देखते हैं और इसी कारण वे विदेषी कल्चर के प्रभाव में हैं। उन्हें इस प्रभाव से बचाने के लिए सबक देगी नानी में हमारी संस्कृति व धरोहर को ध्यान में रखकर कहानियां प्रस्तुत की जाती हैं। पंचतंत्र, जातक कथाएं व अन्य जगहों से कहानियां चुनकर उन्हें एनिमेशन का जामा पहनाया जाता है। हिंदी और अंग्रेजी में बने इस शो की अवधि पांच से सात मिनट की होती है ताकि बच्चे बोर न हो जाएं। अपने इस शो के तहत किरन करोड़ों बच्चों में हमारे संस्कारों का रोपण कर रही हैं और साथ ही हमारी धरोहर को भी बचा रही हैं।
Kiran-Aggarwals-grandmother-will-teach-children-a-lesson
-अनिल बेदाग-

spy apps
पिछले कुछ समय से लगातार गूगल अपने ऐप प्लेटफॉर्म प्‍ले स्‍टोर से ऐप्स हटा रहा है। वजह ये है कि ये ऐप्स कस्टमर्स के लिए कई मायनों में खतरनाक होते हैं। हाल ही में गूगल ने एक बड़े चीनी डेवेलपर को बैन किया और साथ उसके तहत आने वाले लगभग 60 ऐप्स को प्ले स्टोर से हटा लिया।

एंटी वायरस कंपनी एवास्‍ट ने कहा है कि कंपनी ने एंड्रॉयड प्ले स्टोर पर स्टॉकवेयर ऐप्स ढूंढे हैं। स्टॉकवेयर, उन ऐप्स को कहा जाता है कि स्मार्टफोन में यूजर्स की निगरानी या स्पाई करते हैं। ट्रैकर ऐप भी आप इसे कह सकते हैं। एवास्‍ट के मुताबिक ये स्टॉकवेयर ऐप्स 1.30 लाख बार से ज्यादा डाउनलोड किए गए थे। इस एंटी वायरस कंपनी के रिपोर्ट के बाद गूगल ने इसे गूगल प्ले स्टोर से इनमें से चार ऐप्स को हटा लिया है।

कंपनी ने ये भी कहा है कि गूगल की पॉलिसी कमर्शियल स्पाईवेयर ऐप को रोकती है औ यूजर्स को इन्हें रिपोर्ट करने को बढ़ावा देती है। अगर आप भी ऐसे ऐप देखते हैं तो इसे रिपोर्ट कर सकते हैं और अपने स्मार्टफोन में चेक करके इसे हटा सकते हैं। गौरतलब है कि स्टॉकवेयर या स्‍‍‍‍‍पायवेयर ऐप्स को आम तौर पर बच्चों की सेफ्टी के लिए डिजाइन किया जाता है ।

Tiktok
सरकार ने चीनी सोशल मीडिया एप्स टिकटॉप, हेलो को नोटिस जारी किया है। सरकार ने इन एप्स से 21 सवाल पूछे हैं, और कहा कि अगर इनका उचित उत्तर नहीं मिला, तो इन्हें बैन किया जा सकता है। इससे पहले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े संगठन ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से टिकटॉक और हेलो जैसी चीनी सोशल मीडिया एप पर प्रतिबंध लगाने की मांग की थी।

उनका आरोप था कि ये दोनों एप 'राष्ट्रविरोधी' तत्वों का अड्डा बन गए हैं। इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने यह नोटिस राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से संबंधित संगठन स्वदेशी जागरण मंच की प्रधानमंंत्री मोदी से शिकायत के बाद जारी किया है।

मंत्रालय ने इन दोनों एप से इस आरोप पर भी जवाब मांगा है कि ये एप्स 'राष्ट्रविरोधी' गतिविधियों का अड्डा बन गए हैं। वहीं टिकटॉक के कहना है कि वे अगले तीन साल में स्थानीय कम्यूनिटी की जिम्मेदारी के लिये टेक्नोलॉजी इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलप करने को लेकर 100 करोड़ डॉलर का निवेश करेगी।

30 जून तक होगा सांगरी फोटो कांटेस्ट 2019 का रजिस्ट्रेशन
जयपुर। भारत की संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए सांगरी ग्रुप द्वारा सांगरी फोटो प्रतियोगिता 2019 का आयोजन किया जा रहा है, जिसके पंजीकरण की अंतिम तिथि 30 जून हैं। इस फोटो प्रतियोगिता का विषय इंडियन ट्रेडिशनल ड्रेस है। यह फोटो प्रतियोगिता केवल 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र की महिलाओं के लिए है, जिसमें उन्हें पारंपरिक भारतीय पोशाक में फोटो भेजना होगा, जिसे सांगरी कांटेस्ट फेसबुक पेज पर अपलोड किया जाएगा। जिसमें सबसे अधिक पहुंच(Reach) वाले फोटो प्रतिभागी का चयन किया जाएगा और प्रतिभागयों को 39 दिन का समय दिया जायेगा जिसमें उनको फोटो को शेयर करके पहुँच(Reach) बढ़ानी हैं।
sangri photo contest 2019
Sangri Photo Contest 2019

सांगरी इंटरनेट प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक जुंजाराम थोरी ने बताया कि भारतीय पारंपरिक ऑनलाइन फोटो प्रतियोगिता के लिए देश भर से  अभी तक 100 से अधिक महिलाओं ने भाग लिया हैं और पंजीकरण 30 जून तक जारी हैं।  विजेताओं को आगामी मैगज़ीन के कवर पेज पर आने का अवसर मिलेगा। पुरस्कार के साथ ट्रॉफी, मुकुट, प्रमाण पत्र और विभिन्न प्रकार के वाउचर और उपहार अन्य प्रायोजकों द्वारा प्रदान किए जाएंगे।
इस प्रतियोगिता के लिए पंजीकरण, सांगरी कांटेस्ट के फेसबुक पेज और व्हाट्सप्प 9828886882 पर किया जा सकता है।

पूरी जानकारी और प्रक्रिया 
सांगरी फोटो कांटेस्ट 2019

अंतिम तिथि: 30 जून
आयोजक: सांगरी इंटरनेट प्राइवेट लिमिटेड (सांगरी ग्रुप) और पिंक सिस्टर्स ग्रुप के सयुंक्त तत्वाधान में
थीम: इंडियन ट्रेडिशनल ड्रेस
उम्र: 18 वर्ष से अधिक महिलाओं के लिए

इनाम और लाभ: 
- अवार्ड ट्रॉफी
- ताज ( Crown)
- फोटो फ्रेम
- मैडल टॉप 20 के लिए ई बिगशॉप द्वारा
- ऑनलाइन प्रमाण पत्र सभी प्रतियोगियों के लिए
-  विजेता का फोटो आने वाली मैगजीन के कवर फोटो के रूप में
- मीडिया कवरेज
- स्पेशल कवरेज मरुधर भारती समाचार पत्र और वेब चैनल द्वारा
- स्पेशल इंटरव्यू विजेता के साथ
-  आने वाले वीडियो सांग में मौका
- टी शर्ट टॉप-20 के लिए
- फेसबुक पेज मैनेज प्रोफाइल और कवर फोटो के साथ केवल विजेता के लिए
- RS 5000 कैशबैक केवल सेल प्लस एप्लीकेशन वॉलेट में प्रथम विजेता के लिए 
- RS 4000 कैशबैक केवल सेल प्लस एप्लीकेशन वॉलेट में द्वितीय विजेता के लिए 
- RS 3000 कैशबैक केवल सेल प्लस एप्लीकेशन वॉलेट में तृतीय विजेता के लिए 
- RS 1000 कैशबैक केवल सेल प्लस एप्लीकेशन वॉलेट में टॉप-100  के लिए
- संपर्क हेल्पलाइन: 9828886882 

- परिणाम: 10 अगस्त 2019 


‘सोन चिड़िया’ से लेकर ‘पान सिंह तोमर’ और चंबल की क़सम’ जैसी फ़िल्मों के ज़रिए आपने ‘चंबल घाटी’ के डकैतों की कहानियां तो ज़रूर देखीं-सुनी होंगी. लेकिन डकैतों के इस सिनेमाई ग्लैमर से परे, चंबल घाटी के रोज़मर्रा में जीवन के झांककर यहां के ज़मीनी चुनावी मुद्दों की पड़ताल करने चम्बल के कुख्यात बीहड़ों में पाहुचिए और देखिये .राजधानी दिल्ली से क़रीब 350 किलोमीटर दूर, हम मध्यप्रदेश के मुरैना ज़िले के बीहड़ों से गुज़र रहे हैं. लगभग दोमंज़िला इमारतों जितनी उंचाई वाले रेतीले पठारों के बीचे से होते हुए टेढ़े मेढ़े रास्ते. बीच बीच में कंटीली जंगली वनस्पतियों के बड़े-बड़े झाड़ जो गुजराती गाड़ियों के बंद शीशों पर ‘स्क्रैच’ के निशान छोड़ जाते हैं
chambal river
Source: Wikipedia
मुख्य शहर और बीहड़ों से एक घंटे की दूरी पर हमें चम्बल का साफ़ नीला पानी पहली बार नज़र आया. लेकिन मुरैना जिले से गुज़रने वाली यह नदी यहां तक एक लंबा रास्ता तय करके पहुंची है.मूलतः यमुना की मुख्य सहायक नदियों के तौर पर पहचानी जाने वाली चम्बल की शुरुआत विंध्याचल की पहाड़ियों में मऊ शहर के पास से होती है. फिर वहां से मध्यप्रदेश, राजस्थान, और उत्तर प्रदेश की सीमाओं से होती हुई यह वापस मध्य प्रदेश आती है और अंत में उत्तर प्रदेश के जालौन में यमुना में मिल जाती है. लेकिन क़रीब 960 किलोमीटर लम्बी अपनी इस यात्रा में चंबल अपने आस-पास रेतीले कंटीले बीहड़ों का लंबा साम्राज्य खड़ा करते हुए जाती है. हर साल क़रीब 800 हेक्टेयर की दर से बढ़ रहे बीहड़ आज चम्बल घाटी की सबसे बड़ी समस्या है

—अनिल बेदाग— 

मुंबई :  बॉलीवुड में अब डिजिटल प्लेटफॉर्म का भी तेज़ी से विस्तार हो रहा है। कई बड़ी प्रोडक्शन कंपनियां शॉर्ट फिल्मों और वैबसीरीज़ का निर्माण कर रही हैं जिनमें बड़े स्टार्स काम कर रहे हैं। इस प्लेटफॉर्म पर नए कलाकारों के लिए भी काफी स्कोप है। यह ऐसा प्लेटफॉर्म है जिसके माध्यम से निर्माता—निर्देशक के पास दर्शकों तक अपनी बात पहुंचाना काफी आसान हो गया है। वे अपना मैसेज स्वतंत्रतापूर्वक दे पा रहे हैं।
    


इसी दिशा में अब फिल्मकार अनुपम शुक्ला ने ग्लोबल इंडिया प्रोडक्शन एंड फ़िल्म, युवान शुक्ला इंटरटेनमेंट और अनुपम शुक्ला फिल्म्स के बैनर तले शार्ट फ़िल्म 'नेवर लूज योर होप' का निर्माण का निर्माण किया है। इस फ़िल्म में वीरेंद्र मिश्र, गहना वशिष्ठ, शौर्या विभांडिक, अभिलाषा गौर, रागिनी शुक्ला, भारत और संजीवन कुलकर्णी की प्रमुख भूमिका है। आज समाज मे पति पत्नी के बीच छोटे से मतभेद की वजह से रिश्ते बिगड़ रहे हैं और उन्हें लगता है कि एक साथ रहने से उनकी आज़ादी में दखलंदाज़ी हो रही है लेकिन समाधान ये नही कि खुद की थोड़ी सी आज़ादी के लिए रिश्ते तोड़ लिए जाएं। ऐसा करने से हमे कुछ समय के लिए ऐसा लगता तो है कि हम आजाद हो गए, लेकिन इसके पीछे तमाम रिश्तों की नींव डगमगा जाती है। पति पत्नी के बिगड़ते रिश्ते के साथ साथ फ़िल्म में बाप बेटी के बीच भावनात्मक रिश्तों को भी दिखाया गया है। फ़िल्म के निर्माता दुर्गेश शुक्ला, प्रवीन विभांडिक और अनुपम शुक्ला इस शार्ट फ़िल्म का निर्माण बहुत ही भव्य स्तर पर कर रहे हैं। बता दें कि फ़िल्म के निर्माता बहुमुखी प्रतिभा के धनी हैं। निर्माण निर्देशन के साथ साथ फ़िल्म के कैमरामैन और एडिटर भी वह खुद ही हैं। 

Powered by Blogger.